Tag: Special Poetry TaggedDedicated Poetry

मन में लाखों उलझन थी। दिल में खासा शोर था। ये बात उन दिनों की है यारो। जब प्रेम-पत्र का दौर था। सबके छुपकर तन्हाई में। खत हम लिखा करते थे। अक्सर खत के पन्नों में। एक-दूजे के चेहरे दिखते थे।कदम-कदम पर पहरे थे। डरते थे घबराते थे। हिम्मत कर के छूप-छूप कर। एक-दूजे को […]

Read more