Category: Life Poetry

क्या सुकून था जीने में। ना दिल में दर्द छुपाते थे। वो रातें भी क्या रातें थी। बस दो पल में सो जाते थे। मासूमी चेहरे पर थी। हम खुलकर बातें करते थे। नादानी थी फितरत में। गलती करने से डरते थे। बचकानी सी बातों को हम। बार-बार दोहराते थे। वो रातें भी क्या रातें […]

Read more

कोई तुमसे जो पूछे कौन हूँ मैं। कह देना तुम कोई खास नहीं। एक दोस्त कच्चा-पक्का सा। एक झूठा थोडा सच्चा सा। एक गुजरा हुए लम्हे सा। एक बाहाना अच्छा सा। एक बिछड़ा हुआ साथी है। जो अब दिल के पास नहीं।कोई तुमसे जो पूछे कौन हूँ मैं। कह देना तुम कोई खास नहीं। एक […]

Read more

साथ जो जी रहे हैं हम। साथ अपना ये हो ना हो।ये पल कल याद आएंगे। ये पल ना भूल पाएंगे। ये एक-दूसरे को देखकर हँसना। ये एक-दूसरे को देरतक तकना। ये रातों को बातें करना। ये बातों से मन ना भरना। ये रूठ कर खामोश रहना। ये मनाने पर सब कुछ कहना। ये छोटी […]

Read more

वक़्त की मजबूरी है। के हम तुम दूर रहें। शायद यही जरूरी है। के हम तुम दूर रहें। बिछड़ जाने का ये भी। अच्छा बहाना है। तुमको खुश रखने हैं अपने। मुझको भी दिल समझना है। साजिश भी ये पूरी है। के हम तुम दूर रहें। शायद यही जरूरी है। के हम तुम दूर रहें।यादें […]

Read more

तोड़ करके सारी कसमें। भूल कर सारे वादें। रंग अपना दिखा ही दिया। आखिर तुमने हमको भुला ही दिया।क्या वो चाहत झूठी थी। मुझको जाल में फसाने के लिये। क्या वो खेल था तेरा। कुछ समय बीताने के लिये। तोड़ करके सारे सपने। दूर कर सारे भ्रम। तेरा असली चेहरा दिखा ही दिया। आखिर तुमने […]

Read more

जब-जब मैं सोचता हूँ यही बस सोचता हूँ। तन्हाई में अक्सर तुमको ही क्यों सोचता हूँ। मिलती नहीं फुरसत ख्यालों से तेरे। तेरे संग मेरी दोस्ती को सोचता हूँ।

Read more

ये लफ्ज आखरी हैं। मुझे माफ कर देना यारो। भुला देना हर खता मेरी। दिल साफ कर देना यारो। अब नहीं होगी हम-कलाम हमसे। ना ही हमसे मुलाकात होगी।

Read more
Priyank Sharma

जाने क्यों मुझको मोहब्बत हो गयी।
इस दिल को किसी की चाहत हो गयी।
कभी जन्नत हुआ करती थी जिन्दगी।
आज यही जिन्दगी आफत हो गयी।

Read more
Priyank Sharma

देख कर मुझको नजरे चुराने लगी है।शायद वो भी मुझको चाहने लगी है। पल में रूठ जाना।पल में मान जाना।बेवजह मुझको सताना।फिर प्यार से मनाना।रोज नयी अदाएं दिखने लगी है।शायद वो भी मुझको चाहने लगी है। सुबह मुझको उठाना।रातों को जगाना।मेरे सामने आना।धीरे से मुस्कुराना।अपना वक्त मेरे संग बिताने लगी है।शायद वो भी मुझको चाहने […]

Read more
Priyank Sharma

चलो आज साल भर पीछे जाते हैं।क्या खोया है क्या पाया है हम आज हिसाब लगाते हैं।कुछ पराये अपने से लगे कितने ही अपने गैर हो गए।जो साया बन साथ रहते थे जाने कहाँ अंधेरों में खो गए। किसी ने यकीन तोडा किसी ने दिल दुखाया।किसी ने कर के प्यारी-प्यारी बातें हम को सच मए […]

Read more