Month: January 2020

तू जो मेरे इतने करीब है। ना जाने तू किसका नसीब है। तू जो मेरे दिल की राहत है। ना जाने तू किसकी चाहत है। तू जिसके पास मेरे दिल की जागीर है। ना जाने तू किसकी तकदीर है।तू जो साथ मेरे अब तक है। ना जाने तुझ पर किसका हक है। तू जिसकी मेरे […]

Read more

वक़्त की मजबूरी है। के हम तुम दूर रहें। शायद यही जरूरी है। के हम तुम दूर रहें। बिछड़ जाने का ये भी। अच्छा बहाना है। तुमको खुश रखने हैं अपने। मुझको भी दिल समझना है। साजिश भी ये पूरी है। के हम तुम दूर रहें। शायद यही जरूरी है। के हम तुम दूर रहें।यादें […]

Read more

तोड़ करके सारी कसमें। भूल कर सारे वादें। रंग अपना दिखा ही दिया। आखिर तुमने हमको भुला ही दिया।क्या वो चाहत झूठी थी। मुझको जाल में फसाने के लिये। क्या वो खेल था तेरा। कुछ समय बीताने के लिये। तोड़ करके सारे सपने। दूर कर सारे भ्रम। तेरा असली चेहरा दिखा ही दिया। आखिर तुमने […]

Read more

जब-जब मैं सोचता हूँ यही बस सोचता हूँ। तन्हाई में अक्सर तुमको ही क्यों सोचता हूँ। मिलती नहीं फुरसत ख्यालों से तेरे। तेरे संग मेरी दोस्ती को सोचता हूँ।

Read more

ये लफ्ज आखरी हैं। मुझे माफ कर देना यारो। भुला देना हर खता मेरी। दिल साफ कर देना यारो। अब नहीं होगी हम-कलाम हमसे। ना ही हमसे मुलाकात होगी।

Read more

कोई पूछे जो कौन हूँ मैं। कह देना पागल है। ना कोई मंजिल है। ना कोई ठिकाना है। आवारा सा फिरता है। कह देना बादल है। ना कोई एहसास है। ना कोई जज्बात है। दर्द ही देता है। कह देना पत्थर है।ना कोई सपना है। ना कोई अपना है। सबने ठुकरा दिया है। कह देना काफिर है। […]

Read more
ये बेमौसम बरसातें ...

ये बेमौसम बरसातें जब भी आती हैं।
अपने साथ ये तेरी यादें भी ले आती हैं।

ये सर्द हवाएँ तेरे संग होने का हमको अहसास कराती।
जैसे तू चुपके से आती हैं और सीने से लग जाती हैं।
ये बारिश की बूंदें धरती पर गिर कर ऐसा राग बनाती हैं।
जैसे तू कानों में मेरे कोई गीत सुनाती है।

Read more
Priyank Sharma

जाने क्यों मुझको मोहब्बत हो गयी।
इस दिल को किसी की चाहत हो गयी।
कभी जन्नत हुआ करती थी जिन्दगी।
आज यही जिन्दगी आफत हो गयी।

Read more
Priyank Sharma

देख कर मुझको नजरे चुराने लगी है।शायद वो भी मुझको चाहने लगी है। पल में रूठ जाना।पल में मान जाना।बेवजह मुझको सताना।फिर प्यार से मनाना।रोज नयी अदाएं दिखने लगी है।शायद वो भी मुझको चाहने लगी है। सुबह मुझको उठाना।रातों को जगाना।मेरे सामने आना।धीरे से मुस्कुराना।अपना वक्त मेरे संग बिताने लगी है।शायद वो भी मुझको चाहने […]

Read more
Priyank Sharma

चलो आज साल भर पीछे जाते हैं।क्या खोया है क्या पाया है हम आज हिसाब लगाते हैं।कुछ पराये अपने से लगे कितने ही अपने गैर हो गए।जो साया बन साथ रहते थे जाने कहाँ अंधेरों में खो गए। किसी ने यकीन तोडा किसी ने दिल दुखाया।किसी ने कर के प्यारी-प्यारी बातें हम को सच मए […]

Read more